Ashwagandha for Stress

Ashwagandha for Stress

 Ashwagandha for Stress – अश्‍वगंधा कौन कब और कैसे खाये, अश्‍वगंधा खाने के फायदे और नुकसान (In Hindi & English) 

Ashwagandha for Stress


अश्‍वगंधा एक बहुत ही पावरफुल जड़ी बूटी की श्रेणी में आता है। जिसका टॉनिक के रूप में इस्‍तेमाल किया जाता है, जो कि कई सारी बीमारियों से बचाने के साथ-साथ, शरीर को अंदर से ताकत प्रदान करने का कार्य करता है। लेकिन इसका सही फायदा शरीर को मिलने के लिए इसे खाने का सही समय और सही तरीका पता होना बहुत ही जरूरी होता है।

 

अश्‍वगंधा क्‍या है?

अश्‍वगंधा शरीर के हार्मोन को बैंलेंस करने का काम करता है। डिप्रेशन और तनाव को कम करने के साथ-साथ अच्‍छी नींद पाने, दिमागी ताकत बढ़ाने और आपके मूड को तरोताजा रखने, ब्‍लड शुगर को कम करने का काम करता है। यह शरीर में टेस्‍टोस्‍टरॉन जैसे हार्मोन की मात्रा को बढ़ाता है। जिससे शरीर में मसल मास की मात्रा को बढ़ाने और बढ़ी हुई चर्बी को कम करने में काफी मदद मिलती है।

इतना ही नहीं यह महिलाओं और पुरूषों में यौन शक्ति को इंप्रूव करने, इम्‍यूनिटी पावर को बढ़ाने और कैंसर जैसी बीमारियों से बचाने में भी काफी मदद करता है। सवाल यह उठता है कि आखिर अश्‍वगंधा में ऐसा क्‍या है जो किक शरीर को इतने सारे फायदे पहुंचाता है। दरअसल अश्‍वगंधा एक पौधे के रूप में होता है, जिसकी जड़ को सुखाकर पाउडर और कैप्‍सूल के रूप में इस्‍तेमाल किया जाता है। वैसे तो अश्‍वगंधा में कई तरीके के मिनरल्‍स और एंटीऑक्‍सीडेंट मौजूत होते हैं। लेकिन इसकी सबसे खास बात यह है कि यह टेंशन और तनाव की वजह से शरीर में आए असंतुलन को फिर से संतुलित करने का काम करता है। यह बात तो हर किसी को पता है कि टेंशन और तनाव का होना लगभग सभी बीमारियों की जड़ होती है। चाहे त्‍वचा से जुड़ी कोई समस्‍या हो या कमजोर बाल, मानसिक या शारीरिक कमजोरी, यौन प्रॉब्‍लम, रात को जल्‍दी नींद न आना। उसी तनाव को अश्‍वगंधा बहुत बेहतरीन तरीके से कंट्रोल करने का कार्य करता है। जिससे कि उलझा हुआ दिमाग शांत होता है। शरीर अपने आप में बैलेंस होने लगता है। यही वजह है कि अश्‍वगंधा शरीर के लिए इतना फायदेमंद है।

 

अश्‍वगंधा का किस रूप में इस्‍तेमाल करना चाहिए

अश्‍वगंधा दोनों ही तरीके से इस्‍तेमाल किया जा सकता है। लेकिन पाउडर के रूप में इस्‍तेमाल करना ज्‍यादा बेहतर है। हालांकि कंपनी वाले की नियम में खोट हो तो वह कैप्‍सूल और पाउडर दोनों में ही मिलावट कर सकते हैं। इसलिए इसे खरीदते वक्‍त सिर्फ सस्‍ते के पीछे न भागे और इसकी अच्‍छी क्‍वालिटी का भी खास ख्‍याल रखना चाहिए।

 

अश्‍वगंधा को किन चीजों क साथ इस्‍तेमाल करना चाहिए

अगर आपको ए2 मिल्‍क गया मतलब देसी गाय का दूध मिलता है। तो अश्‍वगंधा को हल्‍के गर्म दूध के साथ इस्‍तेमाल करना सबसे बेहतर उपाय हो सकता है। देसी गाय का दूध न मिलने पर इसे भैंस के दूध के साथ ही इस्‍तेमाल किया जा सकता है। अगर आपको वह दूध भी न मिले तो हमे सिर्फ ये हल्‍के गर्म पानी के साथ में इस्‍तेमाल किया जा सकता है।

इसके स्‍वाद को बेहतर बनाने के लिए इसमें थोड़ा सा धोगे वाली मिश्री या प्‍योर शहद का इस्‍तेमाल किया जा सकता है। हालांकि अगर शहद आपको प्‍योर न मिले तो इसे बिना शहद के ही इस्‍तेमाल करना सबसे बेहतर विकल्‍प है।

 

अश्‍वगंधा का इस्‍तेमाल कब करना चाहिए

अश्‍वगंधा को रात का खाना खाने के दो घंटे बाद और सोने से एक घंटे पहले इस्‍तेमाल करना सबसे बेहतर विकल्‍प है। लेकिन अगर आपके लिए अश्‍वगंधा को इस तरीके से इस्‍तेमाल करना मुमकिन न हो तो इसे आप रात के खाने के एक घंटे पहले भी इस्‍तेमाल कर सकते हैं।

उसी तरह अगर आप इसे सुबह के वक्‍त इस्‍तेमाल करना चाहते हैं तो इसे नाश्‍ते के एक डेढ़ घंटे पहले या फिर इसे नाश्‍ते के दो घंटे बाद इस्‍तेमाल कर सकते हैं। इसके अलावा अगर आप हैवी वर्क आउट करने के बाद प्रोटीन पाउडर का इस्‍तेमाल करते हैं तो आप अश्‍वगंधा को उस प्रोटीन में डालकर इस्‍तेमाल कर सकते हैं।

 

अश्‍वगंधा को कितना इस्‍तेमाल करना चाहिए

आमतौर पर अंश्‍वगंधा का आपके पूरे दिन में सिर्फ एक बार ही इस्‍तेमाल करना चाहिए। हालांकि एक्‍सरसाइज या फिर बहुत ज्‍यादा मेहनत करने वाले लोग इसका दिन में दो बाद इस्‍तेमाल भी कर सकते हैं। साथ ही अश्‍वगंधा तासीर में गर्म होने की वजह से इसकी शुरूआत हमेशा ही थोड़ी मात्रा में करनी चाहिए। अगर आप पहली बार इसका इस्‍तेमाल कर रहे हैं तो एक बार में आधा चम्‍मच अश्‍वगंधा काफी हो जाता है और बाद में एक छोटा चम्‍मच तक इसकी मात्रा बढ़ायी जा सकती है। महिलाओं को बतायी गयी मात्रा से आधी मात्रा का इस्‍तेमाल करना चाहिए। मतलब की शुरूआत में एक चौथाई और बाद में इसे आप आधी चम्‍मच तक बढ़ा सकते हैं।

 

किन लोगों को अश्‍वगंधा का इस्‍तेमाल नहीं करना चाहिए

पहले तो जिन लोगों के पेट में अल्‍सर की समस्‍या या फिर पेट में बहुत ज्‍यादा गर्मी महसूस होती है। उन लोगों को अश्‍वगंधा का तब तक इस्‍तेमाल नहीं करना चाहिए जब तक कि पेट का अल्‍सर पूरी तरीके से ठीक न हो जाए। जिन लोगों को ब्‍लड प्रेशर की समस्‍या है। उन्‍हें भी इसका इस्‍तेमाल नहीं करना चाहिए। क्‍योंकि अश्‍वगंधा ब्‍लड प्रेशर को कम करने का कार्य करता है। जो कि हाई ब्‍लड प्रेशर वाले लोगों के लिए तो फायदेमंद होता है लेकिन लो ब्‍लड प्रेशर में इसका इस्‍तेमाल करने से यह समस्‍या को और भी ज्‍यादा बढ़ा सकता है। इसके अलावा गर्भवती महिलाएं और जिन महिलाओं के दूध पीने वाले छोटे-छोटे बच्‍चे हैं। उन्‍हें भी अश्‍वगंधा का इस्‍तेमाल नहीं करना चाहिए। नहीं तो यह फायदों की बजाय नुकसान पहुंचा सकता है।

 

क्‍या अश्‍वगंधा का ज्‍यादा मात्रा में सेवन करने से नुकसान भी हो सकता है

अश्‍वगंधा का कभी भी ज्‍यादा मात्रा में इस्‍तेमाल नहीं करना चाहिए। क्‍योंकि यह एक बहुत ही शक्तिशाली जड़ी-बूटी होने की वजह से इसका ज्‍यादा मात्रा में इस्‍तेमाल करने से उल्‍टी, दस्‍त और कई तरह की अन्‍य समस्‍या उत्‍पन्‍न हो सकती हैं।

 

अश्‍वगंधा का इस्‍तेमाल करते वक्‍त कौन-कौन सी बातों का ख्‍याल रखना चाहिए

सबसे पहले तो इस बात को समझना जरूरी है कि अश्‍वगंधा तनाव को सिर्फ कम करता है। वह इसे खत्‍म नहीं करता। इसलिए अश्‍वगंधा का इस्‍तेमाल करने के साथ-साथ आपको अपनी उन आदतों पर भी नियंत्रण करना चाहिए जोकि तनाव को बढ़ाने का कारण बनती है। अश्‍वगंधा तासीर में गर्म होता है। इसलिएए अगर आप इसका इस्‍तेमाल करते हैं तो आप अपने पूरे दिन खाए जाने वाले खानों में ज्‍यादा रस वाले फल और सब्जियों को जरूर शामिल करें। साथ ही एक सही मात्रा में पानी पीने का भी खास ख्‍याल रखना चाहिए।

Who, when and how to eat Ashwagandha, benefits and harms of eating Ashwagandha

Ashwagandha comes under the category of a very powerful herb. Which is used as a tonic, which, along with protecting it from many diseases, works to provide strength to the body from within. But for the body to get its right benefit, it is very important to know the right time and the right way to eat it.


What is Ashwagandha?

Ashwagandha works to balance the hormones of the body. Along with reducing depression and stress, it works to get good sleep, increase brain power and keep your mood fresh, reduce blood sugar. It increases the amount of hormones like testosterone in the body. Due to which it helps a lot in increasing the amount of muscle mass in the body and reducing the increased fat.

Not only this, it also helps a lot in improving sexual power in women and men, increasing immunity power and protecting against diseases like cancer. The question arises that what is there in Ashwagandha that brings so many benefits to the body. Actually Ashwagandha is in the form of a plant, whose root is dried and used in the form of powder and capsule.

By the way, many types of minerals and antioxidants are present in Ashwagandha. But its most important thing is that it works to re-balance the imbalance in the body due to tension and stress. It is known to everyone that tension and stress are the root of almost all diseases. Whether there is any problem related to skin or weak hair, mental or physical weakness, sexual problems, early sleep at night.

Ashwagandha works to control the same stress in a very good way. So that the confused mind calms down. The body begins to balance itself. This is the reason why Ashwa Gandha is so beneficial for the body.


How to use Ashwagandha

Ashwagandha can be used in both the ways. But it is better to use it in powder form. However, if there is a mistake in the rules of the company, then they can adulterate both capsules and powder. Therefore, while buying it, do not run only after cheapness and special care should be taken of its good quality.


What things should be used with Ashwagandha

If you get A2 Milku Gaya means desi cow's milk. So using Ashwagandha with lukewarm milk can be the best solution. In case the milk of indigenous cow is not available, it can be used along with the milk of buffalo. If you do not even get that milk, then we can use it only with lukewarm water.

To improve its taste, a little washed mishri or pure honey can be used in it. However, if you do not get pure honey, then using it without honey is the best option.


When to use Ashwagandha

The best option is to use Ashwagandha two hours after having dinner and one hour before sleeping. But if it is not possible for you to use Ashwagandha in this way, then you can use it an hour before dinner.

Similarly, if you want to use it in the morning, then you can use it one and a half hours before breakfast or two hours after breakfast. Apart from this, if you use protein powder after heavy work out, then you can use Ashwagandha by adding it to that protein.


How much Ashwagandha should be used

Generally, Anshwagandha should be used only once in your entire day. However, people who exercise or work very hard can also use it twice a day. Also, ashwagandha is hot in effect, it should always be started in small quantities. If you are using it for the first time, then half a teaspoon of Ashwagandha is enough at a time and later its quantity can be increased to a small spoon. Women should use half the quantity prescribed. Meaning one quarter in the beginning and later you can increase it to half a teaspoon.


Who should not use Ashwagandha

First of all, people who have stomach ulcer problem or feel too much heat in the stomach. Those people should not use Ashwagandha until the stomach ulcer is completely cured. People who have problems with blood pressure. They shouldn't be using it either. Because Ashwapagandha works to reduce blood pressure. Which is beneficial for people with high blood pressure, but by using it in low blood pressure, it can increase the problem even more. Apart from this, pregnant women and women who have small children who drink milk. They should also not use Ashwagandha. Otherwise it may cause harm instead of benefit.


Can Ashwagandha be consumed in excess?

Ashwagandha should never be used in excess. Because it is a very powerful herb, using it in excess can cause vomiting, diarrhea and many other problems.

What are the things to be kept in mind while using Ashwagandha?

First of all, it is important to understand that Ashwagandha only reduces stress. He doesn't finish it. Therefore, along with using Ashwagandha, you should also control your habits which cause to increase stress. Ashwa Gandha is hot in effect. Therefore, if you use it, then you must include fruits and vegetables with more juice in the food you eat throughout the day. Also, special care should be taken to drink the right amount of water.

Post a Comment

0 Comments